2 Step वेरिफिकेशन क्या हैं और इसका यूज़ सभी को क्यों करना चाहिए।

आज के समय में बदलती टेक्नोलॉजी के कारण फ्रॉड के तरीके भी बदल गयी हैं अब आपके साथ ऑनलाइन फ्रॉड हो सकती  हैं इसका मुख्य कारण अपने अकाउंट्स को सुरक्षित नहीं रख पाना।

 

अकाउंट को सुरक्षित रखने रखने के लिए वर्तमान समय में नया सिस्टम आया हैं जिसका नाम हैं 2 Step Verification इसकी मदद से हम आसानी से अपने एकाउंट्स को सुरक्षित रख सकते हैं।

 

Two Step Verification Kya Hota Hain – पूरी जानकारी हिंदी में

Two Step Verification Kya Hai

टु स्टेप वेरिफिकेशन एक प्रोसेस जिसकी मदद से हम अपने ऑनलाइन एकाउंट्स  जैसे गूगल अकाउंट, फेसबुक अकाउंट, व्हाट्सप्प अकाउंट, आदि को डबल सिक्योर कर सकते हैं जिससे कोई भी दूसरा व्यक्ति आपके अकाउंट को एक्सेस नहीं कर सकता हैं। जिससे कोई भी अन्य व्यक्ति आपके साथ ऑनलाइन फ्रॉड आसानी से नहीं कर सकता हैं।

 

वर्तमान समय में लोगो का जैसे-जैसे ऑनलाइन गतिवधि बढ़ा हैं जिससे ऑनलाइन फ्रॉड के चान्सेस भी बढ़े हैं इसीलिए हमे ऑनलाइन सिक्योर रहने के लिए Two Step Verification का प्रयोग जरूर करना चाहिए। जिससे कोई आपके अकाउंट को हैक करके आपके साथ कोई फ्रॉड नहीं कर सकता हैं।

 

टु स्टेप वेरिफिकेशन का प्रयोग कैसे किया जाता हैं।

टु स्टेप वेरिफिकेशन का प्रयोग करने के लिए सबसे पहले हमें अपने एकाउंट्स में इसका सेटअप करना होता हैं जिसमे पहले ईमेल या मोबाइल नंबर और पासवर्ड के द्वारा लॉगिन करने के बाद सेटिंग में जाकर इसका सेटअप करना होता हैं।

 

इसके लिए हमे अपने मोबाइल नंबर की आवयश्कता होती हैं जिसमे फर्स्ट टाइम सेटअप के दौरान मोबाइल नंबर पर ओ टी पी (OTP – One Time (Password) आता हैं उसे फिल करने के बाद नंबर वेरिफाइड हो जाता हैं।

 

इसके बाद हम कभी भी अपने टु स्टेप वेरिफिकेशन सेटअप किये हुए अकाउंट को कही भी लॉगिन करते हैं तो पासवर्ड एंटर करने के बाद हमारे मोबाइल नंबर पर ओ टी पी आता हैं उसे देने के बाद हम अपने अकाउंट में लॉगिन कर सकते हैं।

 

2 (Two) Step वेरिफिकेशन के क्या फायदे होते हैं।

1 . इसके द्वारा हम अपने अकाउंट को डबल सिक्योर रख सकते हैं । यह सेटअप होने के बाद अकाउंट हैक होने के चान्सेस ना के बराबर होता हैं क्युकी अगर कोई हैकर आपके अकाउंट को एक्सेस करने के लिए जैसे ही आपके अकाउंट को लॉगिन करने की कोशिश करेगा तो आपके मोबाइल नंबर पर ओ टी पी आएगा।

 

जिससे उसे ओ टी पी नहीं मिल पाने के कारण वह लॉगिन नहीं कर पायेगा और आप भी अलर्ट भी हो जायेगे की कोई आपके अकाउंट को एक्सेस करने की कोशिश कर रहा है तो आप चाहे तो अपने अकाउंट में लॉगिन करके अपने अकाउंट का पासवर्ड भी चेंज कर सकते हैं।

 

Two Step Verification से नुकसान क्या होता हैं।

 

1. टु स्टेप वेरिफिकेशन के कुछ नुकसान भी हैं। जैसे की टु स्टेप वेरिफिकेशन इनेबल होने पर जब भी आप अपने अकाउंट को लॉगिन करना चाहेंगे तो आपको अपना मोबाइल पास में ही रखना होगा जिससे की मोबाइल में ओ टी पी आने पर आप आसानी से OTP फिल कर पाए।

 

2. सिम या मोबाइल खो जाने पर अकाउंट में लॉगिन करने में प्रॉब्लम हो सकती हैं। आपको अपने पुराने नंबर को दुबारा एक्टिवेट करना पड़ेगा जिससे आपके नंबर पर OTP आने में कोई परेशानी नहीं हो।

 

Final Thoughts – 

 

तो दोस्तों आज के इस पोस्ट के माध्यम से हमने 2 Step Verification Kya Hai और इसके फायदे और नुकसान के बारे  जाना। अगर आप अपने अकाउंट को पूरी तरह से सिक्योर रखना चाहते है तो टु स्टेप वेरिफिकेशन का प्रयोग जरूर करें। अगर आपको यह जानकारी अच्छी लगी तो इसे व्हाट्सप्प और फेसबुक पर जरूर शेयर करे। 

 

आप यह भी पढ़ सकते हैं –

Leave a Comment

error: