शिक्षा पर निबंध – Shiksha Par Nibandh in Hindi

शिक्षा पर निबंध – Education Essay in Hindi

 

शिक्षा शब्द संस्कृत के “शिक्ष” धातु से बना है, जिसका अर्थ होता है – ज्ञान। शिक्षा मानव के लिए अनिवार्य है। इसके बिना मनुष्य पशु है। वास्तव में शिक्षा ही मनुष्य को विवेक की आंखें देती है और उसे पशु जगत से अलग करती है।

 

इसी से हम जीवन के योग बनते हैं। यह अत्यंत दुख की बात है कि एक और हम अंतरिक्ष में बसने की बातें कर रहे हैं और वहीं दूसरी ओर लाखों भारतीय आज भी निरक्षर है।

 

वास्तव में यह कलंक की बात है। हमें इस कलंक को धोना ही पड़ेगा, क्योंकि इसके बिना हम जन-जन को भारतीयता, बधुत्व और शांति का पाठ नहीं पढ़ा सकते।

 

shiksha par nibandh

 

सर्व शिक्षा अभियान पर निबंध

 

इसी उद्देश्य से प्रेरित होकर 2 अक्टूबर, 1987 से प्रौढ़ शिक्षा कार्यक्रम का श्रीगणेश हुआ, जिसमें प्रोढ़ो को साक्षर बनाने का संकल्प लिया गया। इस कार्यक्रम में महिलाओं, हरिजनों, आदिवासियों को प्राथमिकता मिली।

 

सर्व शिक्षा अभियान का उद्देश्य सबको शिक्षा प्रदान करना है। सर्व शिक्षा या अनौपचारिक शिक्षा अभियान के अंतर्गत निरक्षर लोगों को साक्षर बनाया जाता है।

 

विभिन्न केंद्रों में शाम में हमारे निरक्षर भाई-बहन अक्षर-ज्ञान प्राप्त करते हैं किंतु यह शिक्षा विद्यालय की शिक्षा से भिन्न है इसीलिए यह अनौपचारिक शिक्षा है।

 

शिक्षा के अभाव में लोग कभी धार्मिक बहकावे में आ जाते हैं, कभी बिना सोचे-समझे अयोग्य व्यक्ति को वोट दे देते हैं, तो कभी जातीयता और साम्प्रयदिकता देखता की ओछी संकीरता में पड़कर दंगा कर बैठते हैं।

 

ऐसी स्थिति में लोगों को शिक्षित करना (साक्षर करना) आवश्यक है। इससे वे अपने अधिकार और कर्तव्य को भी समझेंगे। किसानों को खेती करने में भी बड़ी सुविधा होगी।

 

अतएव कहने की आवश्यकता नहीं है कि सर्व शिक्षा अभियान या साक्षरता अभियान एक सार्थक अभियान है, किंतु अब तक इसके अनुकूल परिणाम नहीं आए हैं। सरकार को शिक्षा-व्यस्था के स्तर में वृद्धि करने के लिए जरूर और कुछ नया करने की जरूरत हैं।

 

Final Thoughts – 

 

आज के इस आर्टिकल में आपने शिक्षा पर निबंध (Shiksha Par Nibandh) हिंदी में पढ़ा। मुझे पूरा विस्वास है की आपको यह हिंदी निबंध जरूर पसंद आया होगा।

 

यह भी पढ़े – 

Leave a Comment

error: