ईद पर निबंध – Eid Essay in Hindi

Eid Par Nibandh in Hindi

 

जिस तरह होली हिंदुओं का और क्रिसमस ईसाइयों का हँसी-खुशी एवं प्रसन्नता का त्यौहार है। ठीक उसी तरह ईद मुसलमानों की प्रसन्नता और उल्लास का त्योहार है।

 

यह त्योहार संपूर्ण इस्लामी जगत का सर्वाधिक महत्वपूर्ण त्योहार है। सभी मुसलमान इस त्योहार को बड़ी श्रद्धा से मनाते हैं। इस त्योहार का दूसरा नाम ईद-उल-फितर है।

 

ईद का अर्थ – ‘फिर से’ और फितर का अर्थ – ‘खाना पीना’ होता है। इस तरह ईद का अर्थ “फिर से खाना पीना” होता है। मुसलमानों का एक महीना रमजान का होता है।

 

रमजान के महीने में इस्लाम-धर्म के प्रवर्तक मोहम्मद साहब ने कठोर साधना की थी और इसी महीने मैं कुरान लिखने के प्रेरणा उन्हें मिली थी। अतः त्योहार कुरान की वर्षगाँठ के रूप में मनाया जाता है।

 

इस महीने में मुसलमान रोजा रखते हैं। रोजा का मतलब है, केवल रात में खाना। रमजान का महीना पूरा होने पर जिस दिन चांद दिखता है। उसके अगले दिन ईद का त्यौहार होता है।

 

इस दिन सभी मुसलमान मीठी-मीठी सेवइयां खाते और दूसरे को भी खिलाते हैं। इसलिए इस त्योहार को मीठी ईद भी कहते हैं। इस दिन से सब, दिन में भी खाना पीना शुरू कर देते हैं।

 

यही ईद की ऐतिहासिक पृष्ठभूमि है। ईद की प्रतीक्षा बड़ी उत्कंठा से की जाती है। सभी मुसलमान इस अवसर पर नए-नए कपड़ों में सजते हैं। ईद के दिन सभी सुबह उठते, स्नान करके तैयार होते और ईदगाह की और चल देते हैं।

 

ईदगाह में सामूहिक नमाज अदा की जाती है। बूढ़े-बच्चे सभी लोग मिलकर खुदा की इबादत करते हैं। नमाज समाप्त होने पर सभी भेदभाव भूलकर एक दूसरे के गले मिलते हैं, “ईद मुबारक” कहते हैं।

 

ईद हमें प्रेम और भाईचारे का संदेश देती है। यह हँसी-खुशी और प्रसन्नता का त्योहार है। इस अवसर पर हिंदू भी मुसलमानों को ईद मुबारक कहते हैं।

 

इस तरह यह त्योहार न केवल धार्मिक महत्व का है वरन इसमें भाईचारे का एक सामाजिक महत्व भी है। यह त्योहार संपूर्ण मुस्लिम संप्रदाय में नवजीवन का संचार करता है। यह त्योहार हमें संकीर्ण धार्मिक भावना से ऊपर उठने की अच्छी सीख देती है।

 

Final Thoughts – 

 

आपको यह ईद पर हिंदी में निबंध (Eid Essay in Hindi) कैसा लगा। नीचे दिए कमेंट बॉक्स के माध्यम से हमें जरूर बताये ताकि आपके फीडबैक के अनुसार हम इस निबंध की गुणवत्ता को बढ़ा सके।

 

आप यह हिंदी निबंध जरूर पढ़े –

Leave a Comment

error: