क्रिसमस पर निबन्ध हिंदी में पढ़िए | Christmas Essay in Hindi

आज के इस आर्टिकल में आप पुरे दुनिया में मनाया जाने वाले विशेष त्योहार “क्रिसमस (Christmas)” पर हिंदी में निबंध पढ़ेंगे। हमने इस आर्टिकल से पहले दुर्गा पूजा और दीवाली पर हिंदी में निबंध पढ़ा।

 

दोस्तों, क्रिसमस को हमारे देश भारत में बड़ा दिन के रूप में भी मनाया जाता हैं। अगर आप क्रिसमस पर्व के बारे में पूरी जानकारी जानना चाहते हैं तो आप हमारे ब्लॉग HindiDeep.Com के आज के इस पोस्ट को जरूर पूरा पढ़े।

 

जिसमे आप इस त्योहार के मनाये जाने की पीछे की प्रथा को भी पढ़ सकते हैं। अब हम आज का यह आर्टिकल क्रिसमस पर निबंध (Christmas Essay on Hindi) को शुरू करते हैं।

 

क्रिसमस डे पर हिंदी में निबंध – Christmas Day Essay in Hindi Language

Christmas Essay in Hindi

प्राचीन काल से ही भारत विविध धर्मों, विविध जातिओं और विविध विचारों की गोद रहा है। हिन्दू, मुस्लिम, ईसाई, सिख, पारसी सभी भारत के निवासी हैं इसलिए धर्मनिरक्षेप भारत में सभी धर्मों से सम्बंधित तरह-तरह के त्योहार मनाए जाते हैं।

 

क्रिसमस ईसाईओं का सार्वधिक महत्वपूर्ण त्योहार हैं। यह त्योहार बहुत कुछ हिन्दुओं की रामनवमी और जन्मास्टमी से मिलता जुलता हैं। रामनवमी को श्री राम के जन्म की जयन्ती मनाई जाती हैं और जन्मास्टमी को कृष्ण के जन्म की। उसी तरह क्रिसमस का त्योहार भी ईसाई लोग, ईसामसीह की जयन्ती के अवसर पर मनाते हैं।

 

कहा जाता है की ईसामसीह का जन्म 25 दिसम्बर को बेथलेहम में हुआ था। इनके पिता जोज़फ और माता मरियम, यहूदी थे। वे लोग बिलकुल साधारण थे जो आश्रय के लिए भटकते हुए बेथलेहम पहुंचे थे।

 

यहीं एक अस्तबल में प्रभु ईसामसीह का जन्म हुआ, जो आगे चलकर ईसाई धर्म के महान प्रवर्तक हुए। आगे चलकर ईसामसीह रोम-सम्राट के कोपभाजन बने और उन्हें शूली पर चढ़ा दिया गया। उनकी मृत्यु के बाद इनके अनुयायी हर वर्ष उनकी वर्षगाँठ 25 दिसम्बर को क्रिसमस के रूप में मनाने लगे।

 

इस त्योहार के अवसर पर ईसाई अपने घर आँगन की सफ़ाई और सजावट करते है। सुबह स्नान करके धार्मिक भाव से गिरजाघरों (चर्च) में जाते हैं, वहाँ प्रभु यीशु से प्रार्थना करते है।

 

इसके बाद उपहार और भेंट का सिलसिला शुरू होता हैं। हर आदमी एक-दूसरे के घर मिठाई लेकर जाता हैं और अपने आत्मीयजनों से मिलता-जुलता हैं।

 

प्रायः शाम में लोग प्रीती-भोज का आयोजन करते हैं, जहाँ बच्चे क्रिसमस का वृक्ष सजाते हैं। मध्य-रात्रि से लेकर दूसरे दिन भर लोग राग-रंग में डूबे रहते हैं।

 

चारों ओर नृत्य और संगीत की धूम मची रहती हैं। इस अवसर पर सजे हुए ‘क्रिसमस वृक्ष (Christmas Tree)’ के चारों ओर लोग खड़े होकर ईसामसीह से प्रार्थना करते हैं और सबके लिए सुख-समृद्धि की कामना की जाती हैं।

 

यह भाईचारा-प्रेम और सदभावना का त्यौहार हैं। सभी ईसाई लोग बड़ी ख़ुशी के साथ मिलजुल कर इस पर्व को मनाते हैं।

 

Final Thoughts – 

 

अगर आपको आज का यह आर्टिकल क्रिसमस पर हिंदी में निबंध (Essay on Christmas Day in Hindi) अच्छा लगा हो तो आप इसे अपने दोस्तों के साथ फेसबुक और व्हाट्सप्प पर शेयर जरूर करे।

 

आप यह महत्वपूर्ण हिंदी निबंध को भी पढ़ सकते हैं –

Leave a Comment

error: