पर्यटन पर निबंध हिंदी में पढ़ें – Tourism Essay in Hindi Language

दोस्तों, आज के इस आर्टिकल में हम पर्यटन पर निबंध हिंदी में पढ़ेंगे। हमने अपने पिछले Hindi Essay के आर्टिकल में परिश्रम के महत्व पर निबंध हिंदी में पढ़ा था।

 

वर्तमान समय में पर्यटन का दिनों-दिन लगातार विस्तार होते जा रहा हैं। आप इस आर्टिकल में आप पर्यटन से होने वाले फ़ायदे और नुकसान के बारे में पढ़ सकते हैं।

 

पर्यटन पर निबंध हिंदी में –

 

मनुष्य एक बुद्धिशील प्राणी है। वह चारा और दाना खाने वाला पशु नहीं है। बुद्धिशीलता मनुष्य को नई जानकारियां प्राप्त करने के लिए बाध्य करती रहती है।

 

अतः वह नई बातों को सुनना, नए स्थानों को देखना, नए लोगों से भेंट करना और नवीन वातावरण में रहना पसंद करता है। इन सारी बातों की पूर्ति के लिए पर्यटन आवश्यक है। इसीलिए आदिल काल से ही मानव-प्रवृत्ति पर्यटन की ओर उन्मुख है।

 

पर्यटन का इतिहास अति प्राचीन है। सभ्यता का विकास आदि मानव के घुमक्क्ड़ जीवन से हुआ है। यातायात के साधनों का अभाव रहने पर भी लोग अपनी पाँव-गाड़ी से पर्यटन किया करते थे।

 

उस काल के पथ कंटकाकीर्ण और खतरनाक थे। पथरीली रास्ते और लार टपकाते हुए नरभक्षी पशुओं की टोलियां रास्ता रोकने को तत्पर रहती थी।

 

फिर भी लोग पर्यटन से मुंह नहीं मोड़ते थे, क्योंकि उनमें अदम्य उत्साह था। आज चारों तरफ विज्ञान का बोलबाला है। यातायात के साधनों द्वारा दुनिया आकाश में उड़ रही है और समुद्र के विशाल वक्ष को चीरती हुई आगे बढ़ रही है।

 

विज्ञान ने समय और दूरी पर विजय प्राप्त कर ली है। आज पर्यटन सुविधकारक और आसान हो गया है। पर्यटन मानव-मस्तिक को विकसित करता है। ज्ञानार्जन से मानव-मस्तिष्क विशाल बनता है।

 

पर्यटन से मनुष्य को व्यवहारिक ज्ञान की प्राप्ति होती है। इससे मनुष्य जीवन की वास्तविकता से परिचित होता है। वह पुस्तकीय ज्ञान से बाहर आकर भौगोलिक, ऐतिहासिक और सांस्कृतिक ज्ञान का आदान-प्रदान करता है।

 

पर्यटन के द्वारा हम संसार-रूपी महासागर में गोता लगाते हैं, तो कहीं ज्ञान का मोती प्राप्त होता है और कहीं सीपी। कहीं महात्माओं के सद-दर्शन होते हैं, तो कहीं दुरात्माओं से साक्षात्कार होता है।

 

इससे हमारा हृदय उदार और विस्तृत होता है। इससे हमारे हृदय में देश प्रेम और विश्व बंधुत्व की भावना बढ़ती है। सच कहा जाए, तो देशाटन या पर्यटन जीवन की प्रयोगशाला है। इस प्रयोगशाला में सच्चे मानव का निर्माण होता है।

 

Final Thoughts – 

 

आप यह भी पढ़ सकते हैं –

Leave a Comment

error: